Category

Self Improvement

Category

Power of Gratitude In Hindi : धन्यवाद! धन्यवाद! धन्यवाद! यूनिवर्स आपका बहुत धन्यवाद कि आपने मुझे यह लेख लिखने के योग्य बनाया।

आपका धन्यवाद कि आपने मुझे यह लेख लिखने के लिए इंटरनेट, लैपटॉप और वह वातावरण दिया जिसके बिना लेख लिखना मेरे लिए संभव ही नहीं था।

power of gratitude hindi
Power of Gratitude

दोस्तों, यह सब मैं इसलिए लिख रहा हूँ क्योंकि आज हम Power of Gratitude पर बात करने जा रहे हैं जो आपके जीवन को बदल सकता है और सफलता की ओर आपको ले जा सकता है।

Law Of Attraction कहता है कि जिस चीज पर हम Focus करते हैं, वह बढ़ने लगती हैं।

यदि आप अपनी कमियों की तरफ फोकस करेंगे तो वह बढ़ने लगेंगी और आप परेशान हो जायेंगे। लेकिन यदि आप अपनी अच्छी चीजों पर ध्यान (फोकस) देंगे तो वह भी बढ़ने लगेंगी और आपको खुशनुमा एहसास कराएंगी।

इसी तरह यदि आपके पास जो नहीं है उस पर ध्यान देंगे और परेशान होंगे तो यह पूरी तरह संभव है कि जो आपके पास है वह भी जल्दी ही चला जायेगा।

और यदि आपके पास जो है उस पर ध्यान देंगे और उसके लिए यूनिवर्स का शुक्रिया (Thankfulness) करेंगे तो भी यह पूरी तरह संभव है कि जो आपके पास नहीं है वह भी जल्द ही आ जायेगा।

आइये सबसे पहले जानते हैं कि कृतज्ञता का अर्थ क्या है? (Gratitude Meaning in Hindi)

कृतज्ञता क्या है? What is the Meaning of Gratitude

1- Gratitude (कृतज्ञता) एक ऐसी मेंटल एक्सरसाइज या मैडिटेशन है जिसके द्वारा हम यूनिवर्स के लिए उन चीजों का शुक्रिया या धन्यवाद देते जो हमारे पास हैं।

2- इसके द्वारा हम उन छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी चीजों के बारे में सोचते हैं जो हमारे पास मौजूद हैं और वह हमारे जीवन में खुशी का एहसास लाती हैं या हमारे जीवन को सरल बनाती हैं।

3- इन चीजों के बारे में सकारात्मक रूप से सोचते हुए हम उस शक्ति के प्रति कृतज्ञ (Grateful) होते हैं जिसने हमें यह सभी चीजें दी हैं। शुक्रिया अदा करने की इस तकनीक को Law of Gratitude कहा जाता है।

यूनिवर्स को आभार (धन्यवाद) क्यों दें? एक उदाहरण

Why use Power of Gratitude?

आइये Power of Gratitude को और ज्यादा समझते हैं। अधिकतर लोगों के असफल और परेशान होने का सबसे बड़ा कारण यह होता है कि वह अपनी कमियों के बारे में या जो चीज उसके पास नहीं है, उसके बारे में ही सबसे अधिक सोचते हैं।

राहुल को ही देख लीजिये, उसके पास एक अच्छा घर है, अच्छा परिवार है, कार है, एक अच्छी नौकरी भी है।

और हाँ वह शरीर से पूरी तरह स्वस्थ है और समाज में उसकी एक ईमानदार और अच्छे व्यक्ति के रूप में पहचान भी है।

लेकिन उसके जीवन की एक कमी यह है कि वह नौकरी की वजह से कहीं अपने परिवार के साथ विदेश में घूमने नहीं जा पाता।

राहुल हमेशा यही सोचता रहता है कि ऐसी जिंदगी से क्या फायदा जिसमे परिवार के साथ दुनिया देखने का समय ही न मिले।

इसका परिणाम क्या हुआ? जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हम जिस चीज पर फोकस करते हैं वह चीज बढ़ने लगती है। राहुल के साथ भी यही हुआ।

उसके साथ सब कुछ अच्छा था लेकिन उसने अपनी उस चीज पर फोकस किया जो उसके पास नहीं थी। धीरे धीरे उसका मन काम में नहीं लगने लगा, परिवार में भी वह गुस्सा करने लगा।

उसका घर उसे जेल जैसा लगता था। एक दिन अपनी कमी के बारे में सोचते हुए वह कार से कहीं जा रहा था कि अचानक उसका ध्यान भटका और एक्सीडेंट हो गया। अब वह अपना एक पैर गवां चुका था।

उसके पास क्या नहीं है, यह विचार सोचते सोचते उसने इसे इतना बड़ा बना लिया कि वह उन चीजों को भी खो बैठा जो उसके पास थीं। इसलिए सही कहा गया है कि जैसा आप सोचते हो वैसे ही बन जाते हो।

यदि राहुल उन चीजों की ओर फोकस करता जो उसके पास थीं और यूनिवर्स को हर रोज उन चीजों के लिए धन्यवाद (Thankful) देता तो वह चीजें और उनका आनंद उसे इतनी ऊर्जा से भर देता कि वह उस चीज को प्राप्त करने का कोई न कोई रास्ता जरूर निकाल लेता जो चीज उसके पास नहीं थी।

ऐसा इसलिए होता क्योंकि-

1- जिन चीजों या विचार के बारे में हम अधिक सोचते (फोकस) है, वह चीजें बढ़ने लगती हैं। यही कारण है कि हम सभी को Power of Gratitude को अपने जीवन में अपनाना चाहिए।

2- आपको हर उस चीज के लिए यूनिवर्स को आभार (Grateful) प्रकट करना चाहिए जो आपके पास है। बदले में वह सभी चीजें आपको मिल जाएँगी जो अभी आपके पास नहीं हैं और जिन्हें आप चाहते हैं।

3- यदि सफल होना चाहते हैं तो फोकस करो कि आपके पास वह कौन कौन सी चीजें हैं जो सफल होने में आपकी हेल्प कर सकती हैं। उन चीजों के लिए यूनिवर्स को रोज धन्यवाद (Feel Gratitude Everyday) दीजिये।

किन चीजों के लिए आभार प्रकट किया जा सकता सकता है?

For what things can one show Gratitude

अब बहुत से लोग कहेंगे कि हमारे पास कुछ ऐसा नहीं है जिसके लिए हम यूनिवर्स को धन्यवाद दे सकें।

यदि ऐसा है तो यह सच आपको बता दूँ कि दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति के पास “उनकी कमियां” बहुत कम है और “उन्हें मिला हुआ” बहुत ज्यादा है।

हम कमियों पर फोकस करते हैं, इसलिए जो मिला है उसे सही से जान नहीं पाते।

आइये कुछ चीजें आपको बता देता हूँ जिनके लिए आप यूनिवर्स को शुक्रिया करके उसे बढ़ा सकते हैं-

1- यूनिवर्स को शुक्रिया अदा कीजिये कि आज सुबह आप जिन्दा उठ पाए क्योंकि दुनिया में लाखों लोग कल रात सोये तो थे लेकिन आज सुबह सोकर नहीं उठ पाए।

2- क्या आपने आज खाना खाया? जरूर खाया होगा। धन्यवाद दीजिये कि आप आज खाना खा पाए। क्योंकि दुनिया में करोड़ो लोगों को आज खाना नसीब नहीं हुआ होगा।

3- यूनिवर्स को धन्यवाद दीजिये कि आप स्वस्थ हैं। आपके शरीर के सभी अंग सही हैं और अच्छी तरह कार्य कर रहे हैं। क्योंकि दुनिया में करोड़ों ऐसे लोग हैं जिनको कोई बड़ी बीमारी है या फिर शरीर का कोई ऐसा अंग नहीं है जिसकी वजह से वह बहुत लाचार स्थिति में हैं।

4- यूनिवर्स का आभार प्रकट (I am Grateful) कीजिये कि आपके पास मोबाइल है, इंटरनेट है जिसकी हेल्प से आप दुनिया की जानकारी रख सकते हैं। दुनिया में करोड़ों लोगों के पास मोबाइल और इंटरनेट नहीं हैं।

5- सुबह उठने से लेकर बिस्तर पर सोने जाने तक आप जो भी चीजें प्रयोग करते हैं। उन सभी चीजों के लिए शुक्रिया अदा (I am grateful) कीजिये क्योंकि उनमे से 75% चीजें इस दुनिया कि 50% लोगों के पास नहीं हैं।

6- आप धन्यवाद दीजिये कि आप सोच सकते हैं और सफलता की शुरुआत सोचने से ही होती है।

7- आप धन्यवाद दीजिये कि आप इस लेख को पढ़ रहे हैं। क्योंकि बहुत सी चीजों ने मिलकर इस लेख को आप तक पहुंचाया और करोड़ों लोग ऐसे भी होंगे जो पढ़ना ही नहीं जानते।

8- आप हर उस छोटी से छोटी चीज के लिए आभार प्रकट (Feel Gratitude Daily) कीजिये जो आपको मिली हुई है- हवा, पेड़, आसमान, कलरफुल दुनिया, कपडे, परिवार, दोस्त, माइंड, यहाँ तक की आपका टूथ ब्रश जो आपके दांत साफ़ करता है आदि।

बहुत ज्यादा नहीं लिखूंगा क्योंकि लिखता गया तो धन्यवाद देते देते इतनी चीजों के बारे में लिख दूंगा कि एक किताब बन जाएगी।

आप खुद सोचिये कि प्रकृति द्वारा दी गयी और अन्य लोगों द्वारा दी गयीं लाखों ऐसी चीजें होंगी जो आपके पास हैं और आपको सकारात्मक बना सकती हैं।

यदि आप उन पर फोकस करेंगे और हर रोज यूनिवर्स को उन चीजों के लिए धन्यवाद (Thankful) देंगे तो ऐसी चीजें और ज्यादा बढ़ने लगेंगी और उन अच्छी चीजों को भी आप तक पहुंचा देंगी जिन्हें पाने की आपकी इच्छा है।

आइये जानते हैं कि-

कृतज्ञता की शक्ति काम कैसे करती है?

How does the Power of Gratitude work?

1-  यह बात आप अब जानते हैं कि जिन चीजों पर हम फोकस करते हैं, वह बढ़ने लगती हैं। यानी वह चीज या उस जैसी और भी चीजें हमारे जीवन में आने लगती हैं।

2- जब भी आप उन चीजों के बारे में यूनिवर्स के प्रति कृतज्ञ होते हैं अर्थात उन्हें उन चीजों के लिए धन्यवाद देते हैं जो आपके पास हैं तो आप उन चीजों पर फोकस कर रहे होते हैं। इसलिए वह चीजें या उस जैसी अन्य चीजें आपके जीवन में आने लगती हैं।

3- यहाँ पर आप दो कार्य कर रहे होते हैं- पहला, आप उन चीजों के बारे में सोच रहे (फोकस कर रहे) होते हैं जो आपके पास हैं और दूसरा आप यूनिवर्स को उन चीजों के लिए धन्यवाद (कृतज्ञता) दे रहे होते हैं।

4- फोकस करने से चीजें बढ़ती हैं लेकिन कृतज्ञता प्रकट करने से वह चीजें बहुत तेजी से बढ़ती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यूनिवर्स को धन्यवाद देते समय आप यूनिवर्स पर आस्था (विश्वास की चरम सीमा) रख रहे होते हैं जिसकी पॉजिटिव वेव आपके फोकस को आध्यात्मिक बना देती हैं।

5- Gratitude करने का परिणाम यह होता है कि जो चीज आपके पास नहीं है, उससे आपका ध्यान हट जाता है और आप जो है, उसका आनंद लेने लगते हैं। इससे आपके अंदर कॉन्फिडेंस आता है और आप उन चीजों को प्राप्त करने के लिए पॉजिटिव एक्शन लेने लगते हैं जो आपके पास नहीं हैं और आखिर आप उन्हें भी खुशियों के साथ पा लेते हैं।

कृतज्ञ होने का नजरिया विकसित कैसे करें?

How to Develop the Attitude of Gratitude

Gratitude आपके Attitude में शामिल होना चाहिए। आपका नजरिया (attitude of gratitude) यूनिवर्स के प्रति हमेशा धन्यवाद से भरा होना चाहिए।

लेकिन यदि आप Gratitude की शुरुआत करना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा समय है- सुबह उठने के ठीक बाद और रात को सोने से ठीक पहले।

यह वह समय है जब आपका चेतन मन (conscious mind) कम काम कर रहा होता है और आपका अवचेतन मन (subconscious mind) अधिक काम कर रहा होता है।

आप इन्हीं समय पर gratitude के माध्यम से अपने अवचेतन मन में आपके पास जो है उसके सकारात्मक विचार को आस्था (विश्वास) के साथ डाल सकते हैं। बाकि का काम आपका अवचेतन मन खुद कर देता है।

Power of Gratitude का प्रयोग करते समय किन बातों का ध्यान रखें?

Gratitude की power का प्रयोग करने के लिए आपको इन सभी बातों को ध्यान में रखना चाहिए-

1- हमेशा अच्छी और सकारात्मक चीजों पर फोकस करें और उसके लिए यूनिवर्स को धन्यवाद (Grateful) दें।

2- Gratitude करते समय आप यूनिवर्स के लिए आस्था (Trust) से भरे होने चाहिए। केवल शब्द ही नहीं बल्कि फीलिंग भी होनी चाहिए।

3- यूनिवर्स ने आपको जो दिया है उसकी तरफ फोकस करें, उसके शुक्रीया (Thankful) अदा करें लेकिन जो आपके पास नहीं हैं उसके लिए अपनी ऊर्जा का उपयोग करते हुए सही एक्शन भी लें।

4- ध्यान रहे जब Power of Gratitude की अवस्था में आप अपने यूनिवर्स को सकारात्मक सन्देश दे रहे होते हैं कि जो आपके पास है उसके लिए आप पूरी तरह पॉजिटिव और संतुष्ट हैं।

अब यूनिवर्स इसी संदेश को मानकर आपको वह सब भी कुछ देगा जो आप चाहते हैं और अभी आपके पास नहीं हैं।

इस पूरे प्रोसेस में आपको यह संदेह नहीं करना है कि यूनिवर्स यह काम कैसे पूरा करेगा?

यह काम आप यूनिवर्स पर छोड़ दें, आप तो बस आस्था रखें और धन्यवाद दें।

5- सबसे महत्वपूर्ण बात:- यहाँ “यूनिवर्स” नाम हमने उस परम शक्ति (Super Natural Power) को दिया है जो इस पूरे संसार और ब्रह्माण्ड को चलाती है।

यहाँ आप “यूनिवर्स” शब्द की जगह उस परम शक्ति को उस नाम से भी बुला सकते हैं जिस परम शक्ति आप मानते हैं और उसके प्रति आस्था रखते हैं।

यदि आप Power of Gratitude के बारे में और भी ज्यादा सीखना चाहते हैं तो आप यह Self Help Books खरीद कर पढ़ सकते हैं-

Power of Gratitude Books

————-*******———— 

दोस्तों! यह आर्टिकल Power of Gratitude in Hindi आपको कैसा लगा? यदि यह Law of Gratitude से रिलेटेड आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो आप इस Gratitude Meaning से रिलेटेड लेख को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Hindi Quotes, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें।

हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks !

बहुत समय पहले की बात है, एक राजा को उपहार में किसी ने बाज के दो बच्चे भेंट किये । वे बड़ी ही अच्छी नस्ल के थे और राजा ने कभी इससे पहले इतने शानदार बाज नहीं देखे थे। राजा ने उनकी देखभाल के लिए एक अनुभवी आदमी को नियुक्त कर दिया।

यह भी पढ़े – फूटा घड़ा – Hindi Moral Story

Motivational Story in Hindi, Hindi Kahani, Hindi Inspirational Story, Unchi Udaan

कुछ समय पश्चात राजा ने देखा कि दोनों बाज काफी बड़े हो चुके थे और अब पहले से भी शानदार लग रहे हैं । राजा ने बाजों की देखभाल कर रहे आदमी से कहा, ” मैं इनकी उड़ान देखना चाहता हूँ। तुम इन्हे उड़ने का इशारा करो। आदमी ने ऐसा ही किया। इशारा मिलते ही दोनों बाज उड़ान भरने लगे पर जहाँ एक बाज आसमान की ऊंचाइयों को छू रहा था वहीँ दूसरा , कुछ ऊपर जाकर वापस उसी डाल पर आकर बैठ गया जिससे वो उड़ा था।

ये देख , राजा को कुछ अजीब लगा। “क्या बात है जहाँ एक बाज इतनी अच्छी उड़ान भर रहा है वहीँ ये दूसरा बाज उड़ना ही नहीं चाह रहा ?”, राजा ने सवाल किया। सेवक बोला, “ जी हुजूर , इस बाज के साथ शुरू से यही समस्या है , वो इस डाल को छोड़ता ही नहीं।”

राजा को दोनों ही बाज प्रिय थे , और वो दूसरे बाज को भी उसी तरह उड़ता देखना चाहते थे। अगले दिन पूरे राज्य में ऐलान करा दिया गया कि जो व्यक्ति इस बाज को ऊँचा उड़ाने में कामयाब होगा उसे ढेरों इनाम दिया जाएगा।

फिर क्या था , एक से एक विद्वान् आये और बाज को उड़ाने का प्रयास करने लगे , पर हफ़्तों बीत जाने के बाद भी बाज का वही हाल था। वो थोडा सा उड़ता और वापस डाल पर आकर बैठ जाता। फिर एक दिन कुछ अनोखा हुआ , राजा ने देखा कि उसके दोनों बाज आसमान में उड़ रहे हैं। उन्हें अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ और उन्होंने तुरंत उस व्यक्ति का पता लगाने को कहा जिसने ये कारनामा कर दिखाया था।

वह व्यक्ति एक किसान था। अगले दिन वह दरबार में हाजिर हुआ। उसे इनाम में स्वर्ण मुद्राएं भेंट करने के बाद राजा ने कहा , ” मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूँ , बस तुम इतना बताओ कि जो काम बड़े-बड़े विद्वान् नहीं कर पाये वो तुमने कैसे कर दिखाया।“ “मालिक ! मैं तो एक साधारण सा किसान हूँ , मैं ज्ञान की ज्यादा बातें नहीं जानता , मैंने तो बस वो डाल काट दी जिस पर बैठने का आदि हो चुका था, और जब वो डाल ही नहीं रही तो वो भी अपने साथी के साथ ऊपर उड़ने लगा।

हम सभी ऊँची उड़ान भरने के लिए ही बने हैं। लेकिन कई बार हम जो कर रहे होते है उसके इतने आदि हो जाते हैं कि अपनी ऊँची उड़ान भरने की क्षमता को भूल जाते हैं। इसलिए ऊंचा उड़ने के लिए जरुरी है कि हम उस डाल को काट दे जो ऊंची उड़ान में बाधक बन रही है।

Other Similar Posts-


आकर्षण का नियम (Law of Attraction) प्रत्येक मनुष्य के लिए प्रकृति द्वारा दिया हुआ बेशकीमती वरदान है। यदि हम अपने चारों ओर के वातावरण को देखें तो हम महसूस करेंगे कि प्रकृति ने हमारे लिए बहुत से नियम बनाये हुए हैं।

आपने गुरुत्वाकर्षण के नियम (Law of Gravity) के बारे में जरूर सुना और पढ़ा होगा। इस नियम के अनुसार पृथ्वी प्रत्येक चीज को अपनी ओर आकर्षित करती है।

law of attraction hindi
Law of Attraction

कोई भी चीज यदि हम ऊपर से छोड़ें तो धरती उसे आकर्षित कर लेगी और वह वस्तु नीचे गिर जाएगी। यह नियम इतना सटीक है कि इसे यूनिवर्सल लॉ भी कहा जाता है।

इसी प्रकार आकर्षण का नियम (Law of Attraction in Hindi) भी हमें प्रकृति के द्वारा दिया हुआ है। प्रत्येक सफल और असफल व्यक्ति जाने या अनजाने में इस नियम का पालन करता है।

आकर्षण का यह नियम तो गुरुत्वाकर्षण के नियम की तरह सभी के लिए सभी जगह काम करता है।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इस नियम को कोई व्यक्ति जानता है या नहीं, वह इसे मानता है या नहीं।

जितने भी सफल व्यक्ति इस दुनिया में हुए हैं, उन सभी ने इस नियम को सही तरीके से अपनाकर ही अपने जीवन में सफलता प्राप्त की है।

यदि आपको जीवन में सफल होना है तो आपको भी इस नियम को जानना चाहिए। दोस्तों, आज मैं आपको आकर्षण का नियम (Law of Attraction Secret) के बारे में बताऊंगा।

आज आप जान सकेंगे कि आकर्षण का नियम क्या है? (Law of Attraction Meaning), आकर्षण का नियम कैसे काम करता है? (How to Law of Attraction Work) और आकर्षण का नियम का प्रयोग कैसे करें? (How to use Law of Attraction)

आकर्षण का नियम क्या है?

What is Law of Attraction

आकर्षण का नियम हमारे विचारों से रिलेटेड है। यह नियम कहता है कि समान चीजें अपने ही समान चीजों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं।

हमारे विचार भी अपने ही समान विचारों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। जब आप कोई विचार सोचते हैं तो आप उसी जैसे अन्य विचारों को भी अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

इस नियम के अनुसार जब आप किसी चीज के बारे में सोचते हैं तो वह चीज और उस प्रकार की अन्य चीजें भी अपनेआप आपके जीवन में आ जाती हैं।

इसको हम इस प्रकार बहुत अच्छी तरह समझ सकते हैं। मान लीजिये कोई व्यक्ति किसी पॉजिटिव विचार के बारे में सोच रहा है तो इसका रिजल्ट यह होगा कि उस पॉजिटिव विचार के साथ ही साथ उस जैसे अन्य पॉजिटिव विचार भी अपने आप उसके माइंड में आ जायेंगे।

इसके विपरीत यदि कोई व्यक्ति किसी नेगेटिव विचार के बारे में सोच रहा है तो इसका रिजल्ट यह होगा कि उस नेगेटिव विचार के साथ ही साथ उस जैसे अन्य नेगेटिव विचार भी अपने आप उसके माइंड में आ जायेंगे।

इस नियम का प्रयोग करके हम अपने जीवन में किसी भी मनपसंद चीज को, चाहें वह बहुत सा पैसा हो, अच्छी हेल्थ हो या अच्छी रिलेशनशिप हो, सभी को अपनी ओर आकर्षित कर सकते हैं और एक सफल जीवन जी सकते हैं।

इस लॉ ऑफ़ अट्रैक्शन के अनुसार जब हम किसी चीज के बारे में फुल फोकस होकर सोचते हैं तो वह चीज हमारे जीवन में आ जाती है।

आकर्षण का नियम कैसे कार्य करता है?

How the Law of Attraction Work

विज्ञान के अनुसार ब्रम्हांड (Universe) में हर चीज ऊर्जा से बनी हुई है। मनुष्य, जानवर, धरती आकाश पृथ्वी व अन्य ग्रह कुछ भी हो सभी ऊर्जा से बने हुए हैं।

ऊर्जा की डेंसिटी हर चीज में अलग अलग होने के कारण हर चीज हमें अलग अलग प्रकार की दिखाई देती है।

वास्तव में यूनिवर्स की सभी चीजें आपस में जुड़ी हुई हैं और वह एक ही ऊर्जा का अलग अलग रूप हैं।

हम भी एक ऊर्जा हैं और जिस चीज को हम पाना चाहते हैं, वह भी ऊर्जा है।

ऊर्जा के अलग अलग रूप (मनुष्य, जानवर, वस्तुएं आदि) की अपनी एक फ्रीक्वेंसी होती है।

साथ ही आपको बता दूँ कि हमारे विचार भी ऊर्जा का ही एक रूप होते हैं। विज्ञान कहता है कि ऊर्जा को न तो मिटाया जा सकता है और न ही इसे उत्पन्न किया जा सकता है।

इसे केवल एक रूप से दूसरे रूप में बदला जा सकता है। (यही ऊर्जा संरक्षण का नियम है।)

विचार ऊर्जा का ही रूप होता है। इस विचार को किसी वस्तु में बदला जा सकता है क्योंकि कोई वस्तु भी ऊर्जा की ही एक रूप होती है। इस प्रकार हम विचार को वस्तु में बदल सकते हैं।

जब हम किसी चीज के बारे विचार करते हैं और उसको पूर्ण आस्था (Full Faith) के साथ सोचते हैं तो उस विचार की फ्रीक्वेंसी यूनिवर्स में चली जाती है।

कुछ समय बाद उस वस्तु के विचार की फ्रेक्वेंसी उस वस्तु को लेकर और उस जैसी फ्रीक्वेंसी की अन्य वस्तुओं को लेकर हमारे जीवन में प्रकट हो जाती है और हम उस वस्तु के मालिक बन जाते हैं।

आज आपको जैसा जीवन मिला है, आज आपके पास जो कुछ भी है, वह आपके द्वारा अतीत में सोचे गए विचारों का ही परिणाम है।

हम फोकस होकर जिस चीज के बारे में सोचते हैं वह हमें मिल जाती है। यदि आप नेगेटिव माइंडसेट के हैं और उन चीजों के बारे में सोचते हैं जिन्हें आप अपने जीवन में नहीं चाहते तो वही नेगेटिव चीजें आपके जीवन में प्रकट हो जाती हैं।

इसके विपरीत यदि आप पॉजिटिव माइंडसेट के हैं और उन चीजों के बारे में सोचते हैं जिन्हें आप अपने जीवन में चाहते तो वही पॉजिटिव चीजें आपके जीवन में प्रकट हो जाती हैं।

क्लियर है कि जैसा हम सोचते हैं वैसा ही हमें मिलता है।  इसे एक उदाहरण द्वारा और समझते हैं-

जिस प्रकार आपका मोबाइल दुनिया के सभी मोबाइल से कनेक्ट है उसी प्रकार इस यूनिवर्स की प्रत्येक चीज की ऊर्जा एक दूसरे से कनेक्ट है।

जब आप किसी अपने व्यक्ति से मोबाइल पर बात करना चाहते हैं तो उसका नंबर मिलाते हैं और जिसका आप नंबर मिलाते हैं उसी से आपकी बात हो जाती है।

उसी प्रकार जिस फ्रीक्वेंसी का विचार आप यूनिवर्स में भेजते हैं उसी फ्रीक्वेंसी की वस्तु आपको मिल जाती है।

सफलता के लिए आकर्षण का नियम का प्रयोग कैसे करें?

How to use Law of Attraction for Success

जैसा कि आपको मैंने बताया कि विचार एक ऊर्जा है और प्रत्येक विचार की अपनी एक फ्रीक्वेंसी होती है।

अब सफल होने के लिए हमें बस इतना करना है कि अपने विचारों की फ्रेक्वेंसी इस प्रकार से सेट करनी है कि वह उस वस्तु की फ्रीक्वेंसी से मैच हो जाये जिसे हम चाहते हैं। बाकि का कार्य यूनिवर्स खुद कर देगा।

आइये अब मैं आपको बताता हूँ कि लॉ ऑफ़ अट्रैक्शन का यूज़ कैसे करें? और आपको अपने विचारों की फ्रीक्वेंसी को अपनी मनपसंद वस्तु की फ्रीक्वेंसी से कैसे मैच करना है-

1- यह मैं आपको बता चुका हूँ कि पूरा यूनिवर्स और उसके अंदर की सभी चीजें ऊर्जा (Energy) से बनी हुई हैं और प्रत्येक वस्तु व विचार की अपनी एक फ्रीक्वेंसी होती है।

हमें बस अपने विचार की फ्रेक्वेंसी को मनपसंद बस्तु की फ्रीक्वेंसी से मैच करना है। यह वैसे ही होता है जैसे रेडिओ को हम किसी विशेष फ्रेक्वेंसी पर ट्यून करके अपना मनपसंद प्रोग्राम सुनते हैं।

2- सबसे पहले आप जिस चीज को प्राप्त करना चाहते हैं (चाहें वह अच्छी हेल्थ हो या ढेर सारा पैसा हो या किसी से अच्छा रिलेशन हो आदि) उसे पाने की प्रबल इच्छा (Strong Desire) आपके अंदर होनी चाहिए।

इस इच्छा को आप जितना ज्यादा बढ़ाएंगे, यह लॉ ऑफ़ अट्रैक्शन आपके लिए उतना ही ज्यादा अच्छी तरह काम करेगा।

3- इसके बाद आपको अपनी इच्छा के बारे में यूनिवर्स को बताना होगा। आपको अपनी मनपसंद चीज यूनिवर्स से मांगनी होगी या कहें तो उसे आदेश देना होगा कि वह आपको आपकी मनपसंद चीज लाकर दे।

आपका यह आदेश क्लियर और पॉजिटिव शब्दों का होना चाहिए।

4- आदेश देने के तुरंत बाद आप इसे एक कागज पर लिख लें। आपको प्रेजेंट टेंस (वर्तमान काल) में लिखना चाहिए।

उदाहरण के लिए, “मैं आज बहुत खुश हूँ क्योंकि आज मैंने अपना मनपसंद घर खरीद लिया है।”

इस कागज को ऐसी जगह रख दें जहाँ आप इसे दिन में कई बार देख सकें।

5- इसके बाद आपको खुद को यह यकीन दिलाना होगा कि आपकी मनपसंद चीज आपके पास है। इसके लिए आपको अपने मनपसंद चीज के विचार के साथ अपने विश्वास या आस्था को जोड़ना होगा।

आस्था वह फीलिंग है जिसे आपको अपने मनपसंद चीज के विचार के साथ जोड़ देना होगा जिसकी वजह से आपकी फ्रीक्वेंसी उस वस्तु की फ्रीक्वेंसी से जल्दी से मैच होगी और आदेश का पालन जल्दी से जल्दी होगा।

6- अपना विचार या आदेश यूनिवर्स को देते समय आपमें कैसी फीलिंग्स होती है, यह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।

आपको खुद को बार बार यह विश्वास दिलाना होगा कि वह चीज आपके पास ही है। और उस चीज के लिए यूनिवर्स को धन्यवाद देते रहना होगा।

आपकी आस्था या फीलिंग जितनी ज्यादा स्ट्रांग होगी उतनी जल्दी यूनिवर्स आपका काम पूरा करेगा।

7- इतना करने के बाद आपका काम समाप्त हो जाता है और यूनिवर्स का काम शुरू हो जाता है।

आपकी आस्था या विश्वास की क्वालिटी के हिसाब से यूनिवर्स उस चीज को आपको देने में समय लेगा और बाद में वह चीज आपको मिल जाएगी।

आकर्षण के नियम का प्रयोग की कुछ जरुरी बातें

Some Important Things about Using the Law of Attraction

1- यह लॉ ऑफ़ अट्रैक्शन सही से तभी कार्य करता है जब आप अपनी मनपसंद चीज को पाने के लिए एक्शन भी लेते हैं। एक्शन लेने या कार्य करने से आपकी आस्था (विश्वास की सबसे ऊपरी लिमिट) बढ़ती जाती है।

2- यूनिवर्स के लिए समय और दूरी और मांगी गई चीज की मात्रा कोई मायने नहीं रखती। कोई चीज आपको मांगने के बाद कब मिलेगी, कितनी मिलेगी यह आपकी फ्रीक्वेंसी की क्वालिटी (आस्था) पर निर्भर करता है।

3- उतनी बड़ी चीज या उतनी मात्रा में कोई चीज मांगो जितना आप विश्वास कर सको कि आप वह चीज प्राप्त करने लायक हो।

4- यूनिवर्स अच्छी या बुरी चीज में कोई फर्क नहीं कर पाता। उसे तो बस फ्रीक्वेंसी से मतलब है। जैसी फीलिंग की फ्रीक्वेंसी आप भेजोगे वैसी ही चीज आपको मिल जाएगी।

5- आकर्षण का नियम प्रकृति का वरदान तभी है जब आप इसे अच्छे कार्यों के लिए प्रयोग करते हैं। यदि आप इसे गलत कार्यों के लिए नेगेटिव फ्रीक्वेंसी सेट करके आदेश देते हैं तो यह आपके और समाज के लिए अभिशाप भी बन सकता है।

6- यूनिवर्स से जब भी कोई चीज मांगो या आदेश दो तो वह क्लियर और सकारात्मक शब्दों का होना चाहिए क्योंकि यूनिवर्स शब्दों से उत्पन्न होने वाली फीलिंग को पकड़ लेता है और उसी के अनुसार कार्य करता है।

उदाहरण के लिए, यदि A लिखता हैं कि “मैं अमीर बनना चाहता हूँ।” और B लिखता है कि “मैं गरीब नहीं बने रहना चाहता।” वैसे तो दोनों का मतलब अमीर बनना ही है लेकिन यूनिवर्स A का “अमीर” शब्द पकड़ेगा और B का “गरीब” शब्द पकड़ेगा और उनके शब्दों के हिसाब से परिणाम देगा।

7- इस नियम को अपनाते समय आपको यूनिवर्स पर शंका नहीं करनी चाहिए। यदि आपने किसी चीज का आदेश यूनिवर्स को दिया तो आपको यह नहीं सोचना कि यूनिवर्स इसे कैसे पूरा करेगा।

यूनिवर्स अपने काम को कैसे अंजाम देता है, यह उसका काम है। आपका काम तो आदेश देने के बाद पूरे विश्वास के साथ इंतजार करना है।

अब आप लॉ ऑफ़ अट्रैक्शन का सही से यूज़ कर सकते हैं लेकिन यदि आपको इस नियम के बारे में और अधिक जानना है तो आप यह Law of Attraction Books In Hindi पढ़ सकते हैं-

Law of Attraction Books

————-*******————

दोस्तों! यह Best Meaning of “What is Law of Attraction” in Hindi आपको कैसा लगा? यदि यह How to use Law of Attraction से रिलेटेड आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो आप इस लेख को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Hindi Quotes, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें।

हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks !

बहुत समय पहले की बात है, किसी गाँव में एक किसान रहता था। वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था। इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था, जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे पर दोनों ओर लटका लेता था।

यह भी पढ़े – प्रेरक कहानी – चार कीमती रत्न

Hindi Moral Story

उनमे से एक घड़ा कहीं से फूटा हुआ था, और दूसरा एक दम सही था। इस वजह से रोज़ घर पहुँचते -पहुचते किसान के पास डेढ़ घड़ा पानी ही बच पाता था। ऐसा दो सालों से चल रहा था।

सही घड़े को इस बात का घमंड था कि वो पूरा का पूरा पानी घर पहुंचता है और उसके अन्दर कोई कमी नहीं है, वहीँ दूसरी तरफ फूटा घड़ा इस बात से शर्मिंदा रहता था कि वो आधा पानी ही घर तक पंहुचा पाता है और किसान की मेहनत बेकार चली जाती है। फूटा घड़ा ये सब सोच कर बहुत परेशान रहने लगा और एक दिन उससे रहा नहीं गया, उसने किसान से कहा, “ मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ और आपसे क्षमा मांगना चाहता हूँ ?”

“क्यों? “ , किसान ने पूछा, “ तुम किस बात से शर्मिंदा हो?”

“शायद आप नहीं जानते पर मैं एक जगह से फूटा हुआ हूँ, और पिछले दो सालों से मुझे जितना पानी घर पहुँचाना चाहिए था बस उसका आधा ही पहुंचा पाया हूँ, मेरे अन्दर ये बहुत बड़ी कमी है, और इस वजह से आपकी मेहनत बर्वाद होती रही है। ”, फूटे घड़े ने दुखी होते हुए कहा।

किसान को घड़े की बात सुनकर थोडा दुःख हुआ और वह बोला, “ कोई बात नहीं, मैं चाहता हूँ कि आज लौटते वक़्त तुम रास्ते में पड़ने वाले सुन्दर फूलों को देखो। ”

घड़े ने वैसा ही किया , वह रास्ते भर सुन्दर फूलों को देखता आया, ऐसा करने से उसकी उदासी कुछ दूर हुई पर घर पहुँचते – पहुँचते फिर उसके अन्दर से आधा पानी गिर चुका था, वो मायूस हो गया और किसान से क्षमा मांगने लगा।

किसान बोला,” शायद तुमने ध्यान नहीं दिया पूरे रास्ते में जितने भी फूल थे वो बस तुम्हारी तरफ ही थे, सही घड़े की तरफ एक भी फूल नहीं था। ऐसा इसलिए क्योंकि मैं हमेशा से तुम्हारे अन्दर की कमी को जानता था, और मैंने उसका लाभ उठाया। मैंने तुम्हारे तरफ वाले रास्ते पर रंग -बिरंगे फूलों के बीज बो दिए थे, तुम रोज़ थोडा-थोडा कर के उन्हें सींचते रहे और पूरे रास्ते को इतना खूबसूरत बना दिया. आज तुम्हारी वजह से ही मैं इन फूलों को भगवान को अर्पित कर पाता हूँ और अपना घर सुन्दर बना पाता हूँ। तुम्ही सोचो अगर तुम जैसे हो वैसे नहीं होते तो भला क्या मैं ये सबकुछ कर पाता?”

दोस्तों हम सभी के अन्दर कोई ना कोई कमी होती है, पर यही कमियां हमें अनोखा बनाती हैं। उस किसान की तरह हमें भी हर किसी को वो जैसा है वैसे ही स्वीकारना चाहिए और उसकी अच्छाई की तरफ ध्यान देना चाहिए, और जब हम ऐसा करेंगे तब “फूटा घड़ा” भी “अच्छे घड़े” से मूल्यवान हो जायेगा।

Other Similar Posts-


How To Overcome Procrastination : असफलता! एक ऐसा शब्द है जिसे इस दुनिया का कोई भी व्यक्ति पसंद नहीं करता लेकिन सच यह है कि दुनिया के अधिकतर लोगों ने असफलता को जाने या अनजाने में अपना अच्छा दोस्त बनाया हुआ है।

बहुत से लोगों को असफल होने की आदत (Habit of failure) सी हो गयी है। आज आप अपने चारों ओर नजर डालिये, आपको बहुत से लोग ऐसे मिल जायेंगे जो असफल हैं और असफल होना उन्होंने अपनी आदत बना लिया है या यह कह सकते हैं कि असफलता को उन्होंने अपना सबसे अच्छा दोस्त बना लिया है।

how to overcome procrastination hindi
Overcome Procrastination

असफलता एक ऐसा दोस्त है जो बहुत ईमानदार है। जो व्यक्ति असफलता को अपना दोस्त बनाता है, असफलता उसका साथ तब तक नहीं छोड़ती जब तक उससे दोस्ती करने वाला व्यक्ति उसे न छोड़ दे।

मैं आपको बता दूँ कि यहाँ असफल व्यक्ति से मतलब किसी ऐसे व्यक्ति से नहीं है जो बहुत गरीब हो, बहुत तनाव में हो और उसे कोई बहुत बड़ा फेलियर मिला हो।

यहाँ असफल व्यक्ति से मतलब उस व्यक्ति से है जो आज तक वह कार्य सही तरीके से शुरू ही न कर पाया हो जिसे वह लक्ष्य बनाकर करना चाहता था। इस दुनिया में ऐसे असफल लोग बहुत ज्यादा हैं।

अब प्रश्न यह है कि एक ऐसी चीज (असफलता) जिसे कोई पसंद नहीं करता लेकिन फिर भी वह दुनिया के अधिकतर लोगों के पास है, ऐसा क्यों?

ऐसा इसलिए क्योंकि उन अधिकतर लोगों ने अपने अंदर कुछ ऐसी आदतें डाल ली हैं जो असफलता को बहुत पसंद है।

आपकी आदतें ही यह निर्णय करती हैं कि आपकी दोस्ती सफलता से होगी या असफलता से होगी।

आपकी आदतें ही वह टर्निंग पॉइंट है जहाँ से यह पता चलता है कि आप शिखर की ओर जायेंगे या पतन की ओर जायेंगे।

लोगों ने ऐसी आदतें बनायीं हुई हैं जो असफलता के लिए चुम्बक का कार्य करती हैं। अब इस चुम्बक (गलत आदतें) को लिए हुए यदि कोई व्यक्ति इस धरती पर रहता है और चाहता है कि उसे सफलता मिले, तो ऐसा संभव ही नहीं है।

अधिकतर लोगों में ऐसी आदतें मौजूद हैं। यही कारण है कि दुनिया के 10% लोगों के पास दुनिया की 90% दौलत है और 90% लोगों के पास 10% दौलत है। कारण क्लियर है कि ऐसा क्यों है।

बहुत सी ऐसी आदतें जो असफलता को चुम्बक की तरह अपनी ओर खींचती हैं, उनमे से एक ऐसी आदत है जो चुम्बक बनी गलत सभी आदतों की लीडर है।

क्या आप उस लीडर आदत के बारे में जानना चाहेंगे?

दोस्तों, उस लीडर आदत का नाम है- टालमटोल की आदत (Habit of Procrastination)। यह एक ऐसी आदत है जो महामारी की तरह लोगों के दिल और दिमाग में बसी हुई है।

यह एक ऐसी लीडर आदत है जिसने अधिकतर लोगों को अपाहिज बनाया हुआ है।

एक ऐसा अपाहिज जो चल तो सकता है लेकिन बैशाखी के साथ। वह देख तो सकता है लेकिन निराशा नाम के चश्मे के साथ।

वह हर काम कर सकता है जो साधारण इंसान करता है लेकिन इस सोच के साथ कि काश! यह काम मैंने पहले या समय रहते कर लिया होता तो आज मैं वो होता जो बनने के लिए मैंने सोचा था।

नेपोलियन हिल ने अपने 20 साल के रिसर्च में सफल लोगों का अध्ययन किया। इस रिसर्च में उन्होंने सभी सफल लोगों में एक आदत को पाया और वह आदत थी- तुरंत निर्णय लेने की आदत (Quick Decision Making Habit)।

सफल लोगों की यह आदत असफल लोगों की ‘लीडर आदत’ के ठीक उलटी है।

जहाँ असफल लोगों की ‘लीडर आदत’ का नाम ‘टालमटोल की आदत’ है वही सफल लोगों की ‘लीडर आदत’ का नाम ‘तुरंत निर्णय लेने की आदत’ है।

एक और केवल आदत इंसान को या तो सफलता के शिखर पर पहुंचा देती है या फिर उसे गुमनामी के देश में ले जाती है।

अब आप बताओ कि आपको कौन सी आदत को अपना दोस्त बनाना है? ‘टालमटोल की आदत’ या ‘तुरंत निर्णय लेने की आदत’?

मुझे मालूम है कि आप तुरंत निर्णय लेने की आदत को अपना दोस्त और अपना हमसफ़र बनाना चाहते हो टालमटोल की आदत छोड़ना (Overcome Procrastination) चाहते हो।

तो मुबारक हो, देर किस बात की है आज ही और अभी कोई ऐसा निर्णय लीजिये जिससे आपका आने वाला कल आज से अच्छा हो सके। जी हाँ! अभी निर्णय लीजिये…………………. 

अब यदि आपने निर्णय ले ही लिया है तो कृपया आप हमें और हमारे पाठकों को भी बता सकते हैं कि आपने अपना कल अच्छा बनाने के लिए आज क्या निर्णय लिया है।

आप अपने इस मूल्यवान निर्णय को नीचे कमेंट में बता सकते हैं। अब यह निर्णय आपका है कि आपने अभी कोई निर्णय लिया है या नहीं।

यदि लिया तो आप सफल लोगों की लिस्ट का हिस्सा बनने जा रहे हैं। और यदि निर्णय नहीं किया है तो क्लियर है कि आपने टालमटोल की आदत को अपना दोस्त बना रखा है।

जो भी हो यदि किसी भी इंसान को सफल होना है तो उसे आज और अभी निर्णय लेना ही चाहिए।

तुरंत निर्णय लेने की आदत केवल एक आदत नहीं बल्कि यह एक ऐसी शक्ति है जिसका उपयोग करके इतिहास में बड़े बड़े साम्राज्य बनाये गए।

इसी शक्ति का उपयोग करके इस धरती पर नए नए आविष्कार हुए और आज भी हो रहे हैं।

एलन मस्क ने समझा कि आज दुनिया को किस चीज की जरुरत है। जब उसकी समझ में आया कि किस चीज की जरुरत है तो उसने तुरंत उसे बनाने का निर्णय लिया और आज टेस्ला दुनिया की नंबर वन इलेक्ट्रिक कार है।

किसी भी कार्य को तब तक टालना जब तक कि काम को टालना एक गलत आदत न बन जाये, इससे ज्यादा बड़ी गलती किसी भी इंसान के जीवन में कोई नहीं हो सकती।

लेकिन आपके लिए खुशी की बात यह है कि टालने की इस गलत आदत को बदला जा सकता है और साथ ही साथ तुरंत निर्णय लेने की आदत को थोड़ी प्रैक्टिस के साथ अपनाकर एक अच्छा दोस्त बनाया जा सकता है।

लेकिन कैसे? टालमटोल की आदत को कैसे छोड़ें? (How To Overcome Procrastination)

टालमटोल करना कैसे छोड़ें?

How To Overcome Procrastination

आइये मैं आपको टालमटोल छोड़ने एक बेहतरीन तरीका (Way to Overcome Procrastination) बताता हूँ जिनको अपनाकर आप टालमटोल की आदत को छोड़कर तुरंत निर्णय लेने की आदत को अपना सकते हैं-

1- टालने की आदत छोड़ने का सबसे अच्छा तरीका है निर्णय लेने की आदत। क्योकि दोनों आदतें एक दूसरे के विपरीत हैं इसलिए यदि निर्णय लेना शुरू करोगे तो काम को टालना खुद छूट जायेगा।

2- सबसे पहले छोटे छोटे निर्णय लेना शुरू कीजिये। बाद में यही छोटे निर्णय आपको बड़े निर्णय लेने को मोटीवेट कर देंगे।

3- यदि आप एक्सरसाइज करना चाहते हैं और काफी समय से इसे टाल रहे हैं। तो एक छोटा सा निर्णय लीजिये कि कल से आप सिर्फ एक मिनट तक कोई भी एक्सरसाइज करेंगे। मुझे लगता है कि कोई भी इस निर्णय को पूरा कर सकता है।

4- इस एक मिनट को धीरे धीरे आपको बढ़ाते जाना है। सबसे अच्छी बात आपको समय बढ़ाने के लिए प्रयास ही नहीं करना पड़ेगा बल्कि यह एक्सरसाइज टाइम खुद यानि बिना प्रयास के बढ़ जायेगा।

5- एक्सरसाइज टाइम बिना प्रयास के इसलिए बढ़ जायेगा क्योंकि यहाँ आपको अपने ही किये कार्य (एक मिनट कसरत) से प्रेरणा मिलनी शुरू हो जाएगी। इस तरह आप किसी भी कार्य को टालना छोड़ सकते हैं।

6- ऊपर बताये गए तरीके में एक नियम कार्य करता है। वह नियम यह है कि जब आप बहुत कम समय के लिए कोई काम करने निर्णय लेते हैं तो आप उसे पूरा कर लेते है क्योंकि यह बहुत ज्यादा आसान होता है।

बाद में आपको इसी कार्य से प्रेरणा मिलनी शुरू हो जाती है और आप उसकी वजह से वही काम ज्यादा करने लगते हैं।

यह नियम मैंने 1% Formula किताब से लेकर आपको बताया है। यदि आप चाहें तो यह Self Help Book यहाँ से खरीदकर पढ़ सकते हैं-

1% Formula Book

साथ ही यदि आप टालने की आदत को छोड़ने और तुरंत निर्णय लेने की शक्ति के बारे में और ज्यादा जानना चाहते हैं तो आप हमारे यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं-

1- अब तो टालना छोड़ दीजिये | Story On Stop Procrastinating

2- छोटे प्रयासों से बड़ी सफलता कैसे पाएं?

————-*******———— 

दोस्तों! यह लेख How To Overcome Procrastination in Hindi आपको कैसा लगा? यदि यह Hindi Article on “Ways To Overcome Procrastination” आपको अच्छा लगा तो आप इस हिंदी लेख को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें।

हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks!

Daily Habits To Improve Life In Hindi : यह जीवन हमें एक उपहार (Gift) के रूप में मिला है। यदि प्रकृति द्वारा मिले इस उपहार का हमने सही उपयोग नहीं किया तो अंत में इस उपहार को किसी कूड़ेदान में डाल दिया जायेगा। यह बात कड़वी है लेकिन सच है।

लेकिन यदि हम चाहें तो मिले हुए इस उपहार को इतना सुन्दर और उपयोगी भी बना सकते हैं कि बाद में लोग इसे अपने दिल और दिमाग में सजा कर रखें।

daily habits to improve life hindi
Daily Habits To Improve Life

लेकिन हम ऐसा क्या कर सकते हैं कि लोग हमें आज भी अपने दिल और दिमाग में रखें और भविष्य में हमारे न होने पर भी ऐसा ही करें?

ऐसा संभव हो सकता है! अब तक हजारों ऐसे सफल लोग (Successful People) हुए हैं जिन्होंने ऐसा कर दिखाया है।

लेकिन क्या हम ऐसा कर सकते हैं? जी हाँ! हम सभी ऐसा कर सकते हैं। God ने दुनिया के सभी लोगों को यह Opportunity दी है।

इसके लिए आपको एक ऐसा सफल इंसान बनना होगा जो इस दुनिया में रहते हुए एक ऐसा उपहार तैयार कर ले जिसकी लोगों को जरुरत है। आज सभी सफल लोग दुनिया को कुछ न कुछ दे रहे हैं।

Elon Musk ने दुनिया को Electric Car दी है। Bill Gates ने दुनिया को Microsoft उपहार में दिया। इन लोगों ने दुनिया को कुछ उपहार दिया इसलिए आज यह सभी Successful Person माने जाते हैं।

हमें भी यदि सफल होना है तो कुछ ऐसा ही करना होगा। लेकिन यहाँ मैं आपको बता दूँ कि सफल इंसान सफल तभी बनें हैं जब इन्होने कुछ ऐसी Daily Habits को अपनाया है जो सफल होने के लिए जरुरी आदतें (Daily Habits for Success) हैं।

सबसे पहले हमें कुछ ऐसी दैनिक आदतें अपनानी होंगी जो सफल लोग (Daily Habits of Successful People) अपनाते हैं।

हमें कुछ ऐसी दैनिक आदतें अपनानी होंगी जो जो हमारी लाइफ को इतना इम्प्रूव कर दें (Best Daily Habits that Change your Life) ताकि हम सफल हो सकें।

हमें खुद को बेहतर बनाने की उन डेली आदतों (Daily Habits To Improve Life) के बारे में जानना होगा जो आसान हैं और सफलता पाने में सहायक हैं।

खुद को बेहतर बनाने वाली 10 आदतें

10 Daily Habits To Improve Life In Hindi

दोस्तों, आज मैं आपको Daily Habits To Improve Your Life के बारे में बताऊंगा जिन्हे यदि आप अपनाते हैं तो सफल जरूर होंगे।

यह Daily Habits for Success मैंने कई Self Help Books को पढ़कर लिखी हैं। कृपया इन सभी जीवन को बेहतर बनाने वाली आदतों को ध्यान से पढ़िए और मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप इन्हें जरूर अपनाएंगे-

1- रोज कुछ नया सीखना (Learn Something New Everyday)

आज से ही हम सभी को इस Daily Habit को अपना लेना चाहिए। वैसे तो हम रोज कुछ नया सीखते हैं लेकिन रोज वह सीखना सबसे जरुरी है जिसका सीधा संबंध हमारे लक्ष्य से है जिसे प्राप्त करके हमें सफलता मिलेगी।

आप अपनी Daily To Do List में ऐसी Skills को सीखने के बारे में रोज लिखें जो सफल होने और खुद को बेहतर बनाने में आपकी हेल्प करे।

यदि आप इस आदत को अपनाते हैं तो एक या दो साल में ही आप दुनिया के उन 5% लोगों जैसे बन जायेंगे जो निकट भविष्य में सफल व्यक्ति बनने वाले हैं।

2- रोज टू डू लिस्ट बनायें (Create Daily To Do List)

रोज टू डू लिस्ट बनाना एक ऐसी आदत है जिसे लगभग सभी सफल लोग अपनाते हैं। Daily To Do List आपके पूरे दिन को मैनेज करती है।

अपनी टू डू लिस्ट में आपको वह कार्य पहले लिखने चाहिए जो सबसे जरुरी हों। इसके बाद आप उन Tasks को लिखिए जो कम जरुरी हों।

इसके बाद आप ऐसे कार्यों को टू डू लिस्ट में जगह दे सकते हैं जो जरुरी नहीं हैं लेकिन यदि टाइम मिला तो कर लिए जायेंगे।

कुछ लोग सबसे कठिन कार्य सबसे पहले करने  लिए लिखते हैं फिर बाद में सरल कार्य लिखते हैं।

आप जो भी Daily To Do List Techniques अपनाएं लेकिन इसका उद्देश्य आपके जीवन को इम्प्रूव (Improve Your Self) करना होना चाहिए।

3- रोज अच्छी किताबें पढ़ें (Read Good Books Every Day)

बुक्स पढ़ना खुद को बेहतर बनाने की यह सबसे अच्छी आदतों में से एक है। (Read Books to Improve your Daily Life) प्रत्येक सफल इंसान इस डेली हैबिट अपनाता है।

आइये जानते हैं कि यह आदत बहुत महत्वपूर्ण क्यों है। प्रत्येक सफल इंसान के सफलता तक पहुंचने में बहुत सी समस्याएं आती है जिन्हें वह सॉल्व करता है।

उसके जीवन के वह अनुभव और सूत्र जो केवल उसी को पता है जो सफल हुआ है। जब कोई सफल इंसान किताब को लिखता है तो वह अपनी पूरी जिंदगी का निचोड़ उसमे लिखता है। अब जब आप उस बुक से सीखेंगे तो सफल हुए बिना नहीं रह सकते। यहाँ हम आपको कुछ लाइफ चेंजिंग बुक्स बता रहे हैं।

आप चाहें तो इन किताबों (Self Help Books) को पढ़ सकते हैं-12 मोटिवेशनल किताबें 

4- अपने समय को रोज मैनेज करें (Manage Your Time Daily)

दुनिया में सभी को एक दिन के 24 घंटे दिए गए हैं। सफल वही होता है जो अपने समय को सही तरीके मैनेज कर पाता है। समय को मैनेज करने डेली आदत आपको डालनी चाहिए।

यदि आप अपने डेली टाइम को सही से मैनेज करते हैं तो आप समय का सही उपयोग (Right Use of Time) कर पाएंगे। साथ ही आप कम समय में अधिक कार्य (More Work in Less Time) कर सकते हैं।

समय के साथ आप अपनी प्रोडक्टिविटी बढ़ा सकते हैं। समय एक ऐसे धन की तरह है जिसे हम जितना अच्छी जगह इन्वेस्ट करेंगे वह उतना ही अच्छा रिटर्न आपको देगा।

5- रोज सुबह पॉजिटिव सेल्फ टॉक करें (Take Positive Self Talk Every Morning)

Positive Self Talk से हम पूरे दिन Motivated और Energetic रहते हैं। यह हमारे अवचेतन मन (Subconscious Mind) में एक अच्छे दिन और अच्छे भविष्य का बीज लगा देते हैं।

दुनिया के अधिकतर सफल लोग Positive Self Talk का प्रयोग सुबह के समय करते हैं।

जिस तरह एक अच्छा ब्रेकफास्ट हमारे शरीर को पूरे दिन अच्छे से वर्क करने के लिए जरुरी है उसी तरह Positive Self Talk हमारे दिमाग को Positive Direction में ले जाने के लिए जरुरी होते हैं।

Positive Self Talk से कुछ उदाहरण आप यहाँ से देख सकते हैं- 50 Self-Affirmations

6- रोज अपने लक्ष्यों को विजुअलाइज करें  (Visualize your Goals Daily)

Visualization एक ऐसा तरीका है जिससे हम अपने अवचेतन मन को यह संकेत देते हैं कि जो लक्ष्य हमने सोचा है वह पूरा हो चुका है।

यदि हमारे अवचेतन माइंड तक यह सन्देश पहुंच जाता है तो वह उस लक्ष्य को भौतिक संसार में लाने का तरीका या कार्य बता देता है।

यह सफल होने का एक अच्छा प्रोसेस है। इसमें आपको एक्शन्स भी लेने होते हैं लेकिन यह एक्शन्स कैसे लेने हैं, यह हमारा अवचेतन मन हमें बताता है।

ऐसा सब अपने लक्ष्यों (Goals) को विजुअलाइज करने से होता है। इस आदत  से आप खुद के जीवन को बहुत बेहतर (Daily Habits To Improve Your Life) बना सकते हैं।

daily habits to improve life hindi
Daily Habits

7- प्रकृति को धन्यवाद देने की आदत डालें (Give Gratitude to Nature)

प्रकृति ने या ऐसी कोई भी शक्ति जिसे आप मानते हैं, उसने आपको बहुत सी ऐसी चीजें या योग्यताएं दी हैं जिसके लिए आपको उस शक्ति या प्रकृति का आभार (धन्यवाद) देना चाहिए।

Gratitude का प्रयोग आपको रोज करना चाहिए। जब भी आप प्रकृति को धन्यवाद देते हैं तो आपके माइंड से Positive Energy निकलती है जो प्रकृति में जाकर आपकी ओर उन सभी चीजों को आकर्षित करती है जिन्हें आप पाना चाहते हैं।

सफल लोग Gratitude की तकनीक का बहुत प्रयोग करते हैं। यदि सफल होना है तो आप भी कर सकते हैं।

8- अपने कल को आज से बेहतर बनाने के तरीके सोचें

हर रोज ये सोचने की आदत डालें कि “मैं अपने आने वाले कल को आज से अच्छा कैसे बना सकता हूँ?” (Think of Ways to Make your Tomorrow Better than Today)

यदि आप रोज कुछ समय ऐसा सोचते हैं तो आपके माइंड में वह तरीके आने लगेंगे जिनको अपनाकर आप अपने आने वाले कल को आज से भी ज्यादा बेहतर और खुशनुमा बना सकते हैं।

जो भी नई बातें आपके माइंड में आएं उन्हें लिखें और अगले दिन दे उन्हें फॉलो करें। जब आपके दिन बेहतर होते जायेंगे तो आपका एक दिन सफलता के मिलन जरूर होगा।

9- हमेशा प्रेजेंट पर फोकस करें (Be Focused On Your Present)

सफल लोगों की यह एक ऐसी आदत है जिसकी वजह से वह बहुत अधिक Productive हो जाते हैं। इस आदत में आपको न ही अपने Past के बारे में सोचना होता है और न ही अपने Future के बारे में सोचना होता है।

आप तो बस अपने Present पर फोकस करते हैं। आप उस कार्य पर फोकस करते हैं जो आप कर रहे होते हैं।

ऐसा करने से आप कम समय में अधिक कार्य कर पाते हैं और साथ ही आप बेवजह की चिंता और अवसाद (Anxiety and Depression) से भी बचे रहते हैं।

इस आदत से आप फोकस्ड हो जाते हैं और खुद को हर रोज बेहतर (Improve your self daily) बनाते रहते हैं।

10- प्रोडक्टिविटी टूल्स का प्रयोग करें (Use Productivity Tools)

कुछ ऐसे तरीके और टूल्स हैं जिनकी हेल्प से आप अपनी कार्य करने की क्षमता (Working Capacity) को बढ़ा सकते हैं।

यहाँ आपको कुछ प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के टूल्स (Productivity Enhancing Tools) की एक लिस्ट मिलेगी जिनका यूज़ आप खुद को और ज्यादा बेहतर बनाने में कर सकते हैं- “Productivity Tools”

साथ ही आप यदि प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के तरीके (Ways to increase Productivity) जानना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को पढ़ सकते हैं- प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के 10 तरीके

यकीन मानिये कि यदि आप इन टूल्स और तरीकों का प्रयोग करेंगे तो सफल होने से आपको कोई नहीं कर सकता। सभी सफल लोग इन तरीकों का यूज़ करते हैं तो आप पीछे क्यों रहें।

————-*******———— 

दोस्तों! यह लेख Best Daily Habits To Improve Your Life in Hindi आपको कैसा लगा? यदि यह Hindi Article on “Daily habits of successful people that change your Life” आपको अच्छा लगा तो आप इस हिंदी लेख को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें।

हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks!

अपनी ज़िंदगी में हर कोई सफल होना चाहता है पर हर तरह का ज्ञान होने के बावजूत हर एक इंसान कामयाबी हासिल नहीं कर पाता क्या आपने कभी इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश की है।

काफी लोगो का मानना होता है की यह पूरी तरह से हमारे mindset पर निर्भर करता है जिसकी वजह से इंसान अपनी ज़िंदगी में कामयाबी और अन्य चीज़ो को हासिल कर पाता है पर mentally strong नहीं होता जिसकी वजह से वे अपनी ज़िंदगी में सफलता के रास्तो को खोल नहीं पाता।

यह समस्या काफी लोगो में देखि गयी है हो सकता है कही न कही आप भी इस समस्या का सामना कर रहे है तो आपकी मदद करने के लिए इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसे तरीको के बारे में बताने वाले है जिसकी मदद से आप mentally strong बन पाएंगे और अपनी ज़िंदगी में कामयाबी के शिखर को हासिल कर पाएंगे।

यह भी पढ़े: ये 7 गुण आपको बचा सकते है किसी भी संकट से

मानसिक रूप से मजबूत होने का क्या मतलब होता है?

कोई भी इंसान मानसिक रूप से मजबूत है, इसका मतलब (Mentally Strong Meaning) होता है उसका दिमाग से ऐसी स्थिति में होना जिससे कोई भी प्रेशर आए तो वह हल्के फुल्के तरीके से उसे झेल लें।

परेशानी के समय भी दिमाग काफी फिट रहे। दिमाग में असफलता, तनाव या समस्या के प्रेशर झेलने की काफी कैपेसिटी हो।

जिसको किसी तरह से कोई भी फोबिया नहीं हो, जो स्ट्रेस, डिप्रेशन, टेंशन, एंजाइटी से दूर रहता है और किसी भी प्रकार की समस्या को बिना परेशान हुए हल कर लेता है।

ऐसी स्थिति में यदि किसी व्यक्ति का Mindset हो तो उस इंसान को मानसिक रूप से मजबूत बोलेगें।

Mentally strong इंसान किसी भी प्रकार की विषम परिस्थितियों को हैंडल कर लेता है और हमेशा खुशहाल रहता है। ऐसे व्यक्ति का सामाजिक जीवन भी अच्छा रहता है।

ऐसे लोगों से हर कोई दोस्ती रखना चाहता है क्योंकि ऐसा व्यक्ति हर किसी से जीवन में आने वाली बुरी परिस्थितियों में उसका साथ भी देता है।

मानसिक रूप से मजबूत होने के फायदा

1. Mentally strong व्यक्ति अपने इमोशन को भी हैंडल करने में उस्ताद होता है और ये Mentally ups & down को भी संभाल लेता है।

2. मानसिक रूप से मजबूत व्यक्ति कभी अपनेआप पर शक नहीं करते हैं, ये self doubts से दूर रहते हैं। जीवन में यदि सबकुछ हमारे अनुसार नहीं हो रहा होता है, हम अपना पूरा efforts भी दे रहे होते हैं फिर भी सफल नहीं होते हैं तब self doubts होने लगता है।

कोई भी साधारण इंसान ऐसी स्थिति में खुद पर शंका करने लगता है लेकिन mentally strong व्यक्ति कभी खुद पर शंका self doubts नहीं करता है।

3. Mentally strong होने से अंदर से साहस (courage) मिलता है, जिससे हर प्रकार के डर (fears), असफलता से सामना करने की शक्ति प्राप्त होती है।

4. मानसिक रूप से मजबूत होने से गलती होने पर हम घबरा नहीं जाते है, बल्कि हमारी mental strength हमें उन गलतियों से सीखना का मौका देती है।

असफल हो जाने के बाद फिर से कुछ करने के लिए खड़ा होना mentally strong व्यक्ति के लिए ही मुमकिन होता है, mentally weak व्यक्ति तो एक बार ही हार जाने के बाद हार मान लेते हैं।

5. Mentally strong बनने से self worth (आत्म मूल्य) high हो जाती है। ऐसा व्यक्ति अंदर से मजबूत होता है और वह अपने आत्म गौरव को महसूस कर सकता है।

6. Mentally strength होने से किसी भी प्रकार का मोटिवेशन लंबे समय तक बना रहता है। Motivation बने रहने से ही रुके हुए काम भी आसानी से हो जाते हैं।

7. Mental strength से Happiness का graph बढ़ता है। Negative thoughts नहीं आते हैं और पॉजिटिविटी बरकरार रहती है।

मानसिक रूप से मजबूत होने के फायदे जानने के बाद ये जान लेना बहुत जरूरी है कि आखिर अपनी Mental Strength को Build कैसे करें।

“Mentally Strong Kaise Bane” को आगे के topics में जानने का प्रयास करते हैं।

मानसिक रूप से मजबूत होने के लिए जरूरी टिप्स (Tips to Being Mentally strong) निम्नलिखित है:-

मानसिक रूप से मजबूत कैसे बनें?

Mentally strong बनने के लिए कुछ छोटी छोटी आदते हैं जिसको अपने लाइफ में अपनाना जरूरी होता है, इसके साथ साथ कुछ छोटे छोटे टिप्स को follow करना पड़ता है।

इस छोटी छोटी आदतों से ही Positive Mindset और High Energy का हमारे जीवन में विकास होता है। आज मैं आपको मानसिक रूप से मजबूत होने के तरीके (Ways to be Mentally Strong) बताऊंगा जिन्हें आप जरूर अपनाएं:-

1. सुबह उठते ही अपना बिस्तर सही करें

Limitless के author और Elon Musk के mind trainer, Jim Kwik का भी मानना है कि सुबह में उठते ही अपना बेड सबसे पहले बनाने से आप अपने दिन का पहला टास्क पूरा करते हैं।

ऐसा करने से पूरे दिन उस पहले काम का पॉजिटिव वाइब्रेशन बना रहता है। इसका फायदा एहोता है कि अब पूरे दिन हम जो भी काम शुरू करते हैं तो ऐसा लगता है कि इस काम को खतम करके ही हम दूसरा काम शुरू करेंगे।

हर सुबह अपना bed बनाने से mental discipline बनता है। जीवन में सफल होने के लिए mental discipline की बहुत जरूरत होती है।

अपने बेड को सही करना (Making bed) Mindfulness practice करने का बहुत सही तरीका है।

सुबह उठते ही अपना bed बनाने की आदत कई लोगों में नहीं होती है जबकि National sleep foundation के मुताबिक अपना bed खुद ठीक करने से नींद की क्वालिटी भी सुधर जाती है।

Mentally strong बनने की दिशा में जो पहला टास्क है वो यही है कि आप सुबह में उठे तो सबसे पहले आप अपने बिस्तर को ठीक करने पर फोकस करें। अपना Bed संवार लें, आपका दिन भी संवर जायेगा।

2. रोज 10 मिनट तक अपने Goal को Visualize करें

अपने goals को daily 10 minute अपने माइंड में Visualize करें, अपने Goals को फील करने की कोशिश करें।

आप के माइंड में ये सवाल आ सकता है कि mentally strong बनने में और अपने Goals को Visualize करने में क्या संबंध है?

मानसिक रूप से मजबूत बनने के पीछे भी तो हमारा यही उद्देश्य है कि हम अपने goals को, अपने लक्ष्य को आसानी से हासिल कर लें। और Visualization करने के अपने ही अलग फायदे होते हैं।

यदि हम अपने लक्ष्य को रोज Visualize करते हैं तो हमारे अंदर इसे पाने का विश्वास, उत्साह और इच्छा बढ़ने लगती हैं और हम अपने Actions पर फोकस कर पाते हैं।

इसलिए रोजाना 10 minute अपने goals को Visualize करना शुरू कर दें, आपको बहुत फायदे होंगे।

3. अपने प्रत्येक दिन की अच्छी बातों के बारे में डायरी में लिखें

संदीप माहेश्वरी जी ने अपने कई सारे सेशन में कहा है कि हर किसी को Daily basis पर एक Gratefulness का Journal लिखना चाहिए और उसे अपने साथ bed के पास में रखना चाहिए।

रोज सोने के पहले हर दिन होने वाले अच्छी बातों को लिख देना चाहिए, हमारे साथ जितने भी अच्छी चीजें हुई हैं, उसके लिए यूनिवर्स को थैंक्स भी बोलना या लिखना (Gratitude) चाहिए।

रोजाना हर दिन के बारे में अच्छा लिखने से जब यह साल बीत जाएगा, जब हम पीछे मुड़ कर देखेंगे तो ऐसा लगेगा कि इस साल हमारे साथ सिर्फ अच्छी चीजें ही हुई है।

Journal लिखने से हमारा माइंड अच्छी चीजों को आकर्षित करना और बेकार चीजों को दूर फेकना सीख जाता है और ऐसे ही माइंड को हम स्ट्रांग माइंड कह सकते हैं।

4. Uncomfortable Truth को स्वीकार करना सीखें

Uncomfortable Truths जिसको हिंदी में कहा जाता है कि “कड़वा सच”। जीवन की डगर हमेशा एक जैसी नहीं होती है, इसमें कई तरह के मोड़ आते जाते रहते हैं।

जिंदगी में कई बार हालात ऐसे होते है कि लगता है कि ऐसा क्यों है? ऐसा तो नहीं होना चाहिए।

लेकिन ऐसा होना जरूरी होता है। ऐसे truth को accept करना आना चाहिए। यह Uncomfortable truths कई तरह के होते है। जैसे:

“मुझे कभी असफलता नहीं मिलेगी”,

“जो मेरे साथ है, वो हमेशा मेरे साथ रहेगा”

“मुझे सब आता है, मुझे सीखने की क्या जरुरत है?”

इस तरह की जो बातें होती है वह हमारे खुद के बनाए हुए beliefs होते हैं जो सच नहीं होते हैं। और भी कई प्रकार के truths होते है, इनको हमें accept करना आना चाहिए।

5. अपना समय दूसरों को खुश करने में बर्बाद मत करें

Mentally strong इंसान कभी खुद का टाइम दूसरों को Sorry कहने में या खुश करने में बर्बाद नहीं करते हैं।

जिसको आपको समझना है, वो आपको समझेगा और जिसको नहीं समझना है, उसे कितना भी खुश कर लो वो आपको नहीं समझेगा।

हम चाह कर भी सभी को खुश नहीं रख सकते। किसी न किसी वजह से कोई न कोई हमेशा आपसे उदास होता रहेगा।

इसलिए भलाई इसी में है कि जिसको उदास होना है हो जाए। आप आगे बढ़ते रहिए। सबको खुश करना कभी संभव नहीं है।

कोई भी आकर आपकी जिंदगी नहीं संवार सकता है, यह काम आपको खुद ही करना है। मानसिक रूप से मजबूत बनना है तो दूसरे लोगों को खुश करना छोड़ दें।

अपने काम से काम रखें। जब जरूरत हो तो अपनी बात को क्लियर करें लेकिन अपना नुकसान करके दूसरों को खुश करने से आपको कुछ नहीं मिलने वाला।

6. किसी को अपनी शक्ति कंट्रोल करने की अनुमति नहीं दें

जीवन में हम कई बार जाने अनजाने में दूसरों लोगों को बहुत ज्यादा अहमियत देने लगते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि वो लोग धीरे धीरे हमारे लाइफ को कंट्रोल करने लगते हैं और हम पर अपनी हुकूमत चलाने लगते हैं।

Mentally strong इंसान ऐसे लोगों पर सबसे पहले लगाम लगाते हैं और अपने जिंदगी की बागडोर अपने हाथ में रखते हैं।

अपनी जिंदगी में सारे फैसले आपके होने चाहिए किसी दूसरे के नहीं। आप अपनी जिंदगी से क्या चाहते हैं? से लेकर आपको क्या हासिल करना है? सब कुछ आपके हिसाब से होना चाहिए।

7. जीवन में आये बदलाव को स्वीकार करना सीखें

Mentally strong people बदलाव को स्वीकार करते हैं और अपने आपको हमेशा positive changes के लिए तैयार रखते हैं।

उनको पता होता है कि बदलाव जीवन का हिस्सा है, हमेशा कुछ भी एक जैसा नहीं रह सकता है इसलिए वो अपने skill को भी समय समय पर sharp करते रहते हैं, खुद को अपडेट करते रहते हैं।

आज की दुनिया किसी एक चीज में अटके रहने के बारे में नहीं बताती बल्कि समय के साथ सकारात्मक परिवर्तन चाहती है।

आपको बदलाव पर हमेशा नजर रखनी चाहिए। जरूरत हो तो सकारात्मक रूप से बदलने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

समय की रफ़्तार से साथ बदलने की आदत रखने वाला व्यक्ति सफल भी होता है और मानसिक रूप से मजबूत भी बनता है।

8. जिस चीज को कंट्रोल नहीं कर सकते उस पर अपनी एनर्जी बर्बाद मत करें

Mentally strong people ट्रैफिक जैम होने पर या सामान खो जाने पर या किसी को छोड़ कर चले जाने पर कभी मातम नहीं मनाते हैं।

उनको पता होता है कि जिंदगी के कई सारे aspects को हम कंट्रोल नहीं कर सकते है इसलिए वो अपना समय इन सारी चीजों पर कभी बर्बाद नहीं करते हैं

मानसिक रूप से मजबूत लोग उन कार्यों को अच्छी तरह और जिम्मेदारी के साथ करते हैं जिनपर वह कंट्रोल कर सकते हैं।

साथ ही जिन चीजों पर उनका कंट्रोल नहीं है, जरुरत होने पर वह वो कार्य करते तो हैं लेकिन जब ऐसा समय आता है जब वह अपना कार्य करने के लिए रूकावट महसूस करते हैं तो उन चीजों को कंट्रोल करने में अपना समय बर्बाद न करके किसी और काम में ध्यान लगाते हैं और जब रुकावट दूर हो जाती है तो रुके हुए काम को भी पूरा कर लेते हैं।

9. अपने बुरे Past को अपने Present से न जोड़ें

Mentally strong people को पता होता है कि हम जो आज करेंगे, उसका रिजल्ट हमें भविष्य में मिलेगा।

Mentally weak लोग अपने बुरे अतीत से इतने आहत होते हैं कि उसके बारे में सोच सोचकर अपना वर्तमान भी ख़राब करते रहते हैं।

और जब उनका वर्तमान बुरा होता है तो उनका भविष्य भी अच्छा नहीं हो सकता।

किसी को भी अपनी असफलताओं और बुरे अतीत को पकड़कर नहीं बैठना चाहिए बल्कि वह करना चाहिए जो एक मानसिक रूप से मजबूत व्यक्ति ऐसे समय पर करता।

एक मानसिक रूप से मजबूत व्यक्ति ऐसे समय में अतीत की बुरी घटनाओं में नही खोया रहता बल्कि वह उन घटनाओं से सीखता।

अतीत से सीखकर वह अपने वर्तमान और भविष्य को अच्छा बनाता और हमेशा आगे बढ़ने का विचार रखता न ही पीछे के बारे में सोचकर दुखी होने का। इसलिए Past से सीखो और सफलता की आगे बढ़ जाओ।

यह भी पढ़े: 5 चीज़े को कामयाब इंसान कभी नहीं करते

10. दूसरे लोगों के सफलता की प्रशंसा करें, उनसे ईर्ष्या न करें

अपने पड़ोसी की सफलता पर खुश होना Mentally strong people की पहचान होती है। Mentally strong people दूसरे लोगों की सफलता देख कर कभी ईर्ष्या नहीं करते हैं। कभी जलन महसूस नहीं करते है।

वो दूसरे लोगों के तरक्की से जलते नहीं हैं बल्कि उनसे सीखते हैं और दूसरे लोगों के Success पर उनको Congrats करते हैं।

सामने वाले के मेहनत और efforts के लिए वो उनकी सच्ची तारीफ करते हैं। मानसिक रूप से मजबूत बनने के लिए आपको भी अपने classmate, अपने सहकर्मी के सफलता पर उसे बधाई देनी चाहिए।

ऐसी छोटी छोटी आदतों से बड़े बड़े परिवर्तन देखने को मिलते हैं।

सच यह है कि किसी की सफलता पर खुश होने से आपको वह सब सीखने को मिलता है जिस वजह से दूसरा व्यक्ति सफल हुआ है।

लेकिन दूसरे की सफलता से ईर्ष्या करने पर आप उससे संबंध भी अच्छे नहीं रख पाते और कुछ सीखने की वजाय आप ईर्ष्या करने में अपना समय बर्बाद करते हैं।

11. कभी भी पहली असफलता मिलने पर Give Up ना करें

Mentally strong people असफलता को हमेशा सीखने के रूप में या अवसर के रूप में लेते हैं। उनको पता होता है कि जीवन में हर बार सफलता मिलना जरूरी नहीं है।

कई बार असफलता भी मिलती है। इसलिए असफलता को देख कर कभी भी ऐसे लोग Give up नहीं करते हैं।

बल्कि एक बार fail हो जाने के बाद वो लोग फिर से शुरू करते है और हमेशा Improvement करते रहते हैं।

वह हमेशा प्रयास करते रहते हैं और तब तक प्रयास करते हैं जब तक उनको सही डायरेक्शन या सफलता नहीं मिल जाती।

असफलता मिली, कोई बात नहीं, उससे सीखो और आगे बढ़ो। Do Not Give Up In Life.

12. कभी भी “जल्दी परिणाम” के बारे में मत सोचें

हर काम का एक अपना process होता है, हर चीज को पूरा होने में एक समय लगता है। काम complete हो जाने के बाद भी हमें रिजल्ट आने में समय लगता है।

Mentally weak इंसान में सब्र नाम की कोई चीज नहीं होती है। वो हमेशा सोचते है कि काम करने के बाद तुरंत बाद रिजल्ट मिल जाए, जो कदापि मुमकिन नहीं होता है।

जबकि Mentally strong people कभी भी immediate results की उम्मीद नहीं करते है और वो हमेशा अपने समय और Skills का सही तरीके से इस्तेमाल करना जानते हैं।

वह धैर्य रखना जानते हैं। जिस काम को पूरा करने के लिए जितनी ऊर्जा या समय की जरुरत होती है उस ऊर्जा और समय को दिए बिना आप उस काम में अच्छे रिजल्ट नहीं प्राप्त कर सकते।

13. अकेले होने से मत घबराइए बल्कि कुछ समय अकेले रहना सीखिए

Mentally weak लोगों का सबसे बड़ा डर यही होता है कि वो अकेले रहने से, खुद के साथ समय बिताने से घबरा जाते हैं।

उनके खुद के विचार उन पे हावी हो जाते है और ऐसे लोग हमेशा भीड़ का हिस्सा बने रहना पसंद करते हैं।

जबकि mentally strong people कभी खुद की संगत से घबराते नहीं हैं। Mentally strong people खुद के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं।

उनके विचार उनको हमेशा Self motivated रखते है। ऐसे इंसान अकेला होने पर भी खुश रहता है।

मानसिक रूप से मजबूत बनने के लिए जरूरी है कि आप की खुद की संगत को एंज्वॉय करें। खुद का साथ खुश रहना सीखें।

यह स्किल जीवन के हर मुश्किल से मुश्किल situation में भी आपको हमेशा मदद करेगी।

दिन में कुछ समय अकेले रहने पर आप केवल अपने विचारों के साथ होते हैं, आप खुद से बात कर पाते हैं और समझ पाते है कि आपकी समस्याएं क्या हैं? उन समस्याओं के समाधान क्या हैं?

कुछ समय अकेले रहने से आप रिचार्ज हो जाते हैं और फ्रेश फील करते हैं।

अकेले रहना अधिकतर लोगों के लिए मुश्किल जरूर है लेकिन मानसिक रूप से मजबूत लोग ऐसा बखूबी कर पाते हैं और इसका फायदा भी लेते हैं।

ऊपर बताई गई सारी चीजें प्रैक्टिकल है। इसे कोई भी आसानी से adopt कर सकता है और अपने Life में आगे बढ़ सकता है।

ऊपर बताई गई टिप्स और सलाह को अपने जीवन में Follow करे और आगे बढ़ते रहें। आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

अंतिम शब्द

काफी लोग ऐसा सोचते है की उन्हें कुछ सिखने की जरुरत नहीं और उन्हें सब कुछ आता है और यही एक गलती है जो किसी इंसान को आगे बढ़ने नहीं देती कहने का मतलब है की काफी लोग ऐसा सोचते है की वे mentally काफी strong है और वे उन बातो को जानना पसंद ही नहीं करते जिसकी वजह से वे और आगे बढ़ सकते है और मै एक बात और और कहना चाहता हु की इन दिए गए तरीको को आप जरूर अपनी ज़िंदगी में शामिल करके देखे क्योकि सिर्फ ज्ञान प्राप्त करने से कुछ नहीं होता उसे आपको अपनी ज़िंदगी में अपनाना भी होगा |

और पढ़े:-