Power of Gratitude In Hindi : धन्यवाद! धन्यवाद! धन्यवाद! यूनिवर्स आपका बहुत धन्यवाद कि आपने मुझे यह लेख लिखने के योग्य बनाया।

आपका धन्यवाद कि आपने मुझे यह लेख लिखने के लिए इंटरनेट, लैपटॉप और वह वातावरण दिया जिसके बिना लेख लिखना मेरे लिए संभव ही नहीं था।

power of gratitude hindi
Power of Gratitude

दोस्तों, यह सब मैं इसलिए लिख रहा हूँ क्योंकि आज हम Power of Gratitude पर बात करने जा रहे हैं जो आपके जीवन को बदल सकता है और सफलता की ओर आपको ले जा सकता है।

Law Of Attraction कहता है कि जिस चीज पर हम Focus करते हैं, वह बढ़ने लगती हैं।

यदि आप अपनी कमियों की तरफ फोकस करेंगे तो वह बढ़ने लगेंगी और आप परेशान हो जायेंगे। लेकिन यदि आप अपनी अच्छी चीजों पर ध्यान (फोकस) देंगे तो वह भी बढ़ने लगेंगी और आपको खुशनुमा एहसास कराएंगी।

इसी तरह यदि आपके पास जो नहीं है उस पर ध्यान देंगे और परेशान होंगे तो यह पूरी तरह संभव है कि जो आपके पास है वह भी जल्दी ही चला जायेगा।

और यदि आपके पास जो है उस पर ध्यान देंगे और उसके लिए यूनिवर्स का शुक्रिया (Thankfulness) करेंगे तो भी यह पूरी तरह संभव है कि जो आपके पास नहीं है वह भी जल्द ही आ जायेगा।

आइये सबसे पहले जानते हैं कि कृतज्ञता का अर्थ क्या है? (Gratitude Meaning in Hindi)

कृतज्ञता क्या है? What is the Meaning of Gratitude

1- Gratitude (कृतज्ञता) एक ऐसी मेंटल एक्सरसाइज या मैडिटेशन है जिसके द्वारा हम यूनिवर्स के लिए उन चीजों का शुक्रिया या धन्यवाद देते जो हमारे पास हैं।

2- इसके द्वारा हम उन छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी चीजों के बारे में सोचते हैं जो हमारे पास मौजूद हैं और वह हमारे जीवन में खुशी का एहसास लाती हैं या हमारे जीवन को सरल बनाती हैं।

3- इन चीजों के बारे में सकारात्मक रूप से सोचते हुए हम उस शक्ति के प्रति कृतज्ञ (Grateful) होते हैं जिसने हमें यह सभी चीजें दी हैं। शुक्रिया अदा करने की इस तकनीक को Law of Gratitude कहा जाता है।

यूनिवर्स को आभार (धन्यवाद) क्यों दें? एक उदाहरण

Why use Power of Gratitude?

आइये Power of Gratitude को और ज्यादा समझते हैं। अधिकतर लोगों के असफल और परेशान होने का सबसे बड़ा कारण यह होता है कि वह अपनी कमियों के बारे में या जो चीज उसके पास नहीं है, उसके बारे में ही सबसे अधिक सोचते हैं।

राहुल को ही देख लीजिये, उसके पास एक अच्छा घर है, अच्छा परिवार है, कार है, एक अच्छी नौकरी भी है।

और हाँ वह शरीर से पूरी तरह स्वस्थ है और समाज में उसकी एक ईमानदार और अच्छे व्यक्ति के रूप में पहचान भी है।

लेकिन उसके जीवन की एक कमी यह है कि वह नौकरी की वजह से कहीं अपने परिवार के साथ विदेश में घूमने नहीं जा पाता।

राहुल हमेशा यही सोचता रहता है कि ऐसी जिंदगी से क्या फायदा जिसमे परिवार के साथ दुनिया देखने का समय ही न मिले।

इसका परिणाम क्या हुआ? जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हम जिस चीज पर फोकस करते हैं वह चीज बढ़ने लगती है। राहुल के साथ भी यही हुआ।

उसके साथ सब कुछ अच्छा था लेकिन उसने अपनी उस चीज पर फोकस किया जो उसके पास नहीं थी। धीरे धीरे उसका मन काम में नहीं लगने लगा, परिवार में भी वह गुस्सा करने लगा।

उसका घर उसे जेल जैसा लगता था। एक दिन अपनी कमी के बारे में सोचते हुए वह कार से कहीं जा रहा था कि अचानक उसका ध्यान भटका और एक्सीडेंट हो गया। अब वह अपना एक पैर गवां चुका था।

उसके पास क्या नहीं है, यह विचार सोचते सोचते उसने इसे इतना बड़ा बना लिया कि वह उन चीजों को भी खो बैठा जो उसके पास थीं। इसलिए सही कहा गया है कि जैसा आप सोचते हो वैसे ही बन जाते हो।

यदि राहुल उन चीजों की ओर फोकस करता जो उसके पास थीं और यूनिवर्स को हर रोज उन चीजों के लिए धन्यवाद (Thankful) देता तो वह चीजें और उनका आनंद उसे इतनी ऊर्जा से भर देता कि वह उस चीज को प्राप्त करने का कोई न कोई रास्ता जरूर निकाल लेता जो चीज उसके पास नहीं थी।

ऐसा इसलिए होता क्योंकि-

1- जिन चीजों या विचार के बारे में हम अधिक सोचते (फोकस) है, वह चीजें बढ़ने लगती हैं। यही कारण है कि हम सभी को Power of Gratitude को अपने जीवन में अपनाना चाहिए।

2- आपको हर उस चीज के लिए यूनिवर्स को आभार (Grateful) प्रकट करना चाहिए जो आपके पास है। बदले में वह सभी चीजें आपको मिल जाएँगी जो अभी आपके पास नहीं हैं और जिन्हें आप चाहते हैं।

3- यदि सफल होना चाहते हैं तो फोकस करो कि आपके पास वह कौन कौन सी चीजें हैं जो सफल होने में आपकी हेल्प कर सकती हैं। उन चीजों के लिए यूनिवर्स को रोज धन्यवाद (Feel Gratitude Everyday) दीजिये।

किन चीजों के लिए आभार प्रकट किया जा सकता सकता है?

For what things can one show Gratitude

अब बहुत से लोग कहेंगे कि हमारे पास कुछ ऐसा नहीं है जिसके लिए हम यूनिवर्स को धन्यवाद दे सकें।

यदि ऐसा है तो यह सच आपको बता दूँ कि दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति के पास “उनकी कमियां” बहुत कम है और “उन्हें मिला हुआ” बहुत ज्यादा है।

हम कमियों पर फोकस करते हैं, इसलिए जो मिला है उसे सही से जान नहीं पाते।

आइये कुछ चीजें आपको बता देता हूँ जिनके लिए आप यूनिवर्स को शुक्रिया करके उसे बढ़ा सकते हैं-

1- यूनिवर्स को शुक्रिया अदा कीजिये कि आज सुबह आप जिन्दा उठ पाए क्योंकि दुनिया में लाखों लोग कल रात सोये तो थे लेकिन आज सुबह सोकर नहीं उठ पाए।

2- क्या आपने आज खाना खाया? जरूर खाया होगा। धन्यवाद दीजिये कि आप आज खाना खा पाए। क्योंकि दुनिया में करोड़ो लोगों को आज खाना नसीब नहीं हुआ होगा।

3- यूनिवर्स को धन्यवाद दीजिये कि आप स्वस्थ हैं। आपके शरीर के सभी अंग सही हैं और अच्छी तरह कार्य कर रहे हैं। क्योंकि दुनिया में करोड़ों ऐसे लोग हैं जिनको कोई बड़ी बीमारी है या फिर शरीर का कोई ऐसा अंग नहीं है जिसकी वजह से वह बहुत लाचार स्थिति में हैं।

4- यूनिवर्स का आभार प्रकट (I am Grateful) कीजिये कि आपके पास मोबाइल है, इंटरनेट है जिसकी हेल्प से आप दुनिया की जानकारी रख सकते हैं। दुनिया में करोड़ों लोगों के पास मोबाइल और इंटरनेट नहीं हैं।

5- सुबह उठने से लेकर बिस्तर पर सोने जाने तक आप जो भी चीजें प्रयोग करते हैं। उन सभी चीजों के लिए शुक्रिया अदा (I am grateful) कीजिये क्योंकि उनमे से 75% चीजें इस दुनिया कि 50% लोगों के पास नहीं हैं।

6- आप धन्यवाद दीजिये कि आप सोच सकते हैं और सफलता की शुरुआत सोचने से ही होती है।

7- आप धन्यवाद दीजिये कि आप इस लेख को पढ़ रहे हैं। क्योंकि बहुत सी चीजों ने मिलकर इस लेख को आप तक पहुंचाया और करोड़ों लोग ऐसे भी होंगे जो पढ़ना ही नहीं जानते।

8- आप हर उस छोटी से छोटी चीज के लिए आभार प्रकट (Feel Gratitude Daily) कीजिये जो आपको मिली हुई है- हवा, पेड़, आसमान, कलरफुल दुनिया, कपडे, परिवार, दोस्त, माइंड, यहाँ तक की आपका टूथ ब्रश जो आपके दांत साफ़ करता है आदि।

बहुत ज्यादा नहीं लिखूंगा क्योंकि लिखता गया तो धन्यवाद देते देते इतनी चीजों के बारे में लिख दूंगा कि एक किताब बन जाएगी।

आप खुद सोचिये कि प्रकृति द्वारा दी गयी और अन्य लोगों द्वारा दी गयीं लाखों ऐसी चीजें होंगी जो आपके पास हैं और आपको सकारात्मक बना सकती हैं।

यदि आप उन पर फोकस करेंगे और हर रोज यूनिवर्स को उन चीजों के लिए धन्यवाद (Thankful) देंगे तो ऐसी चीजें और ज्यादा बढ़ने लगेंगी और उन अच्छी चीजों को भी आप तक पहुंचा देंगी जिन्हें पाने की आपकी इच्छा है।

आइये जानते हैं कि-

कृतज्ञता की शक्ति काम कैसे करती है?

How does the Power of Gratitude work?

1-  यह बात आप अब जानते हैं कि जिन चीजों पर हम फोकस करते हैं, वह बढ़ने लगती हैं। यानी वह चीज या उस जैसी और भी चीजें हमारे जीवन में आने लगती हैं।

2- जब भी आप उन चीजों के बारे में यूनिवर्स के प्रति कृतज्ञ होते हैं अर्थात उन्हें उन चीजों के लिए धन्यवाद देते हैं जो आपके पास हैं तो आप उन चीजों पर फोकस कर रहे होते हैं। इसलिए वह चीजें या उस जैसी अन्य चीजें आपके जीवन में आने लगती हैं।

3- यहाँ पर आप दो कार्य कर रहे होते हैं- पहला, आप उन चीजों के बारे में सोच रहे (फोकस कर रहे) होते हैं जो आपके पास हैं और दूसरा आप यूनिवर्स को उन चीजों के लिए धन्यवाद (कृतज्ञता) दे रहे होते हैं।

4- फोकस करने से चीजें बढ़ती हैं लेकिन कृतज्ञता प्रकट करने से वह चीजें बहुत तेजी से बढ़ती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यूनिवर्स को धन्यवाद देते समय आप यूनिवर्स पर आस्था (विश्वास की चरम सीमा) रख रहे होते हैं जिसकी पॉजिटिव वेव आपके फोकस को आध्यात्मिक बना देती हैं।

5- Gratitude करने का परिणाम यह होता है कि जो चीज आपके पास नहीं है, उससे आपका ध्यान हट जाता है और आप जो है, उसका आनंद लेने लगते हैं। इससे आपके अंदर कॉन्फिडेंस आता है और आप उन चीजों को प्राप्त करने के लिए पॉजिटिव एक्शन लेने लगते हैं जो आपके पास नहीं हैं और आखिर आप उन्हें भी खुशियों के साथ पा लेते हैं।

कृतज्ञ होने का नजरिया विकसित कैसे करें?

How to Develop the Attitude of Gratitude

Gratitude आपके Attitude में शामिल होना चाहिए। आपका नजरिया (attitude of gratitude) यूनिवर्स के प्रति हमेशा धन्यवाद से भरा होना चाहिए।

लेकिन यदि आप Gratitude की शुरुआत करना चाहते हैं तो इसका सबसे अच्छा समय है- सुबह उठने के ठीक बाद और रात को सोने से ठीक पहले।

यह वह समय है जब आपका चेतन मन (conscious mind) कम काम कर रहा होता है और आपका अवचेतन मन (subconscious mind) अधिक काम कर रहा होता है।

आप इन्हीं समय पर gratitude के माध्यम से अपने अवचेतन मन में आपके पास जो है उसके सकारात्मक विचार को आस्था (विश्वास) के साथ डाल सकते हैं। बाकि का काम आपका अवचेतन मन खुद कर देता है।

Power of Gratitude का प्रयोग करते समय किन बातों का ध्यान रखें?

Gratitude की power का प्रयोग करने के लिए आपको इन सभी बातों को ध्यान में रखना चाहिए-

1- हमेशा अच्छी और सकारात्मक चीजों पर फोकस करें और उसके लिए यूनिवर्स को धन्यवाद (Grateful) दें।

2- Gratitude करते समय आप यूनिवर्स के लिए आस्था (Trust) से भरे होने चाहिए। केवल शब्द ही नहीं बल्कि फीलिंग भी होनी चाहिए।

3- यूनिवर्स ने आपको जो दिया है उसकी तरफ फोकस करें, उसके शुक्रीया (Thankful) अदा करें लेकिन जो आपके पास नहीं हैं उसके लिए अपनी ऊर्जा का उपयोग करते हुए सही एक्शन भी लें।

4- ध्यान रहे जब Power of Gratitude की अवस्था में आप अपने यूनिवर्स को सकारात्मक सन्देश दे रहे होते हैं कि जो आपके पास है उसके लिए आप पूरी तरह पॉजिटिव और संतुष्ट हैं।

अब यूनिवर्स इसी संदेश को मानकर आपको वह सब भी कुछ देगा जो आप चाहते हैं और अभी आपके पास नहीं हैं।

इस पूरे प्रोसेस में आपको यह संदेह नहीं करना है कि यूनिवर्स यह काम कैसे पूरा करेगा?

यह काम आप यूनिवर्स पर छोड़ दें, आप तो बस आस्था रखें और धन्यवाद दें।

5- सबसे महत्वपूर्ण बात:- यहाँ “यूनिवर्स” नाम हमने उस परम शक्ति (Super Natural Power) को दिया है जो इस पूरे संसार और ब्रह्माण्ड को चलाती है।

यहाँ आप “यूनिवर्स” शब्द की जगह उस परम शक्ति को उस नाम से भी बुला सकते हैं जिस परम शक्ति आप मानते हैं और उसके प्रति आस्था रखते हैं।

यदि आप Power of Gratitude के बारे में और भी ज्यादा सीखना चाहते हैं तो आप यह Self Help Books खरीद कर पढ़ सकते हैं-

Power of Gratitude Books

————-*******———— 

दोस्तों! यह आर्टिकल Power of Gratitude in Hindi आपको कैसा लगा? यदि यह Law of Gratitude से रिलेटेड आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो आप इस Gratitude Meaning से रिलेटेड लेख को Share कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें E.Mail भी कर सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Hindi Quotes, Money Tips या कोई और जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें।

हमारी E.Mail Id है– [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने ब्लॉग पर Publish करेंगे। Thanks !

Write A Comment